भले ही अधिदेश अपने उपभोक्ताओं को कोयले का उत्पादन और प्रेषण करना है, कोयला/लिग्नाइट पीएसयू ने बहुत सस्ती कीमत पर अधिभार (ओवरबर्डन) से रेत का उत्पादन करने और भराई के उद्देश्य के लिए प्रोसेस्ड ओबी का उपयोग करने के लिए लीक से हटकर पहल की है। यह न केवल ओवरबर्डन से रेत गाद (सिल्टेसन) के कारण होने वाले पर्यावरण प्रदूषण को कम करने में मदद करेगा, बल्कि निर्माण कार्य के लिए सस्ती रेत प्राप्त करने का भी विकल्प मिलेगा। रेत का उत्पादन शुरू हो चुका है।

कोयले के ओपनकास्ट खनन के दौरान, कोयला सीम के ऊपर स्थित परत को ओवरबर्डन के रूप में जाना जाता है जिसमें चिकनी मिट्टी जलोढ़ रेत और भरपूर मात्रा में सिलिका सामग्री वाले बलुआ पत्थर होते हैं। नीचे से कोयले को बाहर निकालने के लिए ओवरबर्डन को हटा दिया जाता है। कोयला निष्कर्षण पूरा होने के बाद, भूमि को उसकी मूल स्थिति में लाने के लिए ओवरबर्डन का उपयोग बैक फिलिंग के लिए किया जाता है। ऊपर से ओवरबर्डन हटाते समय वॉल्यूम का उभार (स्वेल) फैक्टर 20-25% होता है। कम से कम 25% ओवरबर्डन को पीसकर, छानकर और सफाई करके रेत में परिवर्तित करने की पहल की गई है।

इस तरह के रूपांतरण की पहली पहल सीआईएल की सहायक कंपनी वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (डब्ल्यूसीएल) ने अपनी खानों में की है। प्रारंभ में एक पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया था जहां विभागीय स्तर पर लगाई गई मशीनों के माध्यम से रेत निकाली गई थी। यह रेत नागपुर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट को प्रधान मंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के अधीन कम लागत वाले घरों के निर्माण के लिए काफी सस्ती कीमत पर दी गई है। रेत की कीमत बेहतर गुणवत्ता वाली रेत की बाजार कीमत से लगभग 10 फीसदी है। परियोजना की भारी सफलता और सस्ती रेत की बढ़ती मांग के साथ, डब्ल्यूसीएल ने नागपुर के पास देश के सबसे बड़े रेत उत्पादन संयंत्र को चालू करके व्यावसायिक उत्पादन शुरू किया। यह इकाई प्रतिदिन लगभग आधे बाजार मूल्य पर 2500 क्यूबिक मीटर रेत का उत्पादन करती है। इस संयंत्र से उत्पादित रेत का बड़ा हिस्सा सरकारी इकाइयों जैसे एनएचएआई, एमओआईएल, महाजेनको और अन्य छोटी इकाइयों को बाजार मूल्य के एक तिहाई पर दिया जा रहा है। शेष रेत को बाजार में खुली नीलामी के माध्यम से बेचा जा रहा है जिससे स्थानीय लोगों को काफी सस्ते दामों पर रेत मिल रही है। ओवरबर्डन के उपयोग से ओवरबर्डन डंप के लिए आवश्यक भूमि की मात्रा कम हो गई है। इस पहल ने रेत के रिवर बेड खनन के प्रतिकूल फुटप्रिंट्स को भी कम किया है। डब्ल्यूसीएल सड़क निर्माण के लिए ओवरबर्डन भी एनएचएआई और अन्य को सस्ती कीमत पर बेच रही है।

सर्कुलर इकोनॉमी (वेस्ट टू वेल्थ) को बढ़ावा देने के इस प्रयास में, कोयला/लिग्नाइट पीएसयू ने 4 ओबी प्रोसेसिंग संयंत्रों और 5 ओबी टू एम-सैंड संयंत्रों को चालू किया है। 6 ऐसे संयंत्र कोयला/लिग्नाइट पीएसयू में स्थापना के विभिन्न चरणों में हैं। यह प्रयास न केवल बड़े पैमाने पर समाज की मदद करेगा बल्कि रेत के रिवर बेड खनन को कम करने में भी मदद करेगा।

एसीसीएल द्वारा गोगांव क्षेत्र में और एसीसीएल द्वारा श्रीरामपुर ओसी खानों में प्रोसेस्ड ओवर बर्डन प्लांट

अमलोरी प्लांट, एनसीएल में ओवर बर्डन से एम-सैंड प्लांट
अमलोरी प्लांट, एनसीएल में ओवर बर्डन से एम-सैंड प्लांट