कोयला भंडारों के समाप्ति के बाद, खनन क्षेत्रों से ईको पार्क के विकास, वाटर स्पोर्ट्स के लिए स्थल, भूमिगत भ्रमण, गोल्फ मैदान,मनोविनोद के एवेन्यूज, एडवेंचर, पक्षियों को देखना आदि के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा देने की अच्छी संभावनाएं हैं। पिछले कुछ वर्षों में, कोयला कंपनियों/लिग्नाइट पीएसयू ने संधारणीय खान बंद करने संबंधी पद्धति द्वारा 30 से अधिक ईको-पार्क विकसित किए हैं। ये खनन क्षेत्र अब स्थिर, पर्यावरणीय रूप से संधारणीय हैं और सौंदर्य की दृष्टि से एक अत्यंत खूबसूरत स्थल हैं।

Gunjan Park of ECL – An OC mine turned into a beautiful Eco-Park with water body
ईसीएल का गुंजन पार्क –जल जीव के साथ एक सुंदर ईको-पार्क में परिवर्तित ओसी खान
Saoner Park of WCL with several features including a mine museum
खान संग्रहालय सहित विभिन्न विशेषताओं के साथ डब्ल्यूसीएल का सावनेर पार्क

     

Saoner Park of WCL with several features including a mine museum
एसईसीएल में अनन्य वाटिका:  ओबी डंब के साथ पुरानी परित्यक्त खान का पुनरुद्धार
AnanyaVatika in SECL: Restoration of the old abandoned mine with OB dump
AnanyaVatika in SECL: Restoration of the old abandoned mine with OB dump
Mine-I Eco Park in NLCIL: Inauguration during VriksaropanAbhiyan 2020
एनएलसीआईल में खान-Iईको-पार्क:वृक्षारोपण अभियान, 2020 के दौरान उद्घाटन
Mine-I Eco Park in NLCIL: Boating facility
एनएलसीआईल में खान-Iईको-पार्क: बोटिंग सुविधा

इनमें से कुछ स्थलों को पहले ही स्थानीय पर्यटन सर्किट के साथ एकीकृत किया जा चुका है तथा कोयला कंपनियां अन्य पार्कों के एकीकरण के लिए संबंधित राज्य के पर्यटन विभागों के साथ परामर्श कर रही हैं। इन स्थलों से आत्मनिर्भरता हेतु राजस्व सृजन और स्थानीय लोगों हेतु रोजगार क्षमता उत्पन्न होने की संभावना है।

• एनएलसीआईएल ने माइन-I और माइन-II में इको-टूरिज्म को बढ़ावा देने और सतत खनन गतिविधियों को दर्शाने के लिए 05.10.2022 को पांडिचेरी पर्यटन विकास निगम (पीटीडीसी) के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

• एनसीएल ने सिंगरौली इको-टूरिज्म सर्किट को बढ़ावा देने के लिए मध्य प्रदेश पर्यटन बोर्ड के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

• इको-टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए डब्ल्यूसीएल ने पर्यटन निदेशालय, महाराष्ट्र के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

खान पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ईको-पार्कों/पर्यटन स्थलों का विकास करना कोयला मंत्रालय के एस और जेटी अनुभाग एवं कोयला कंपनियों द्वारा ध्यान दिए जाने वाले प्रमुख क्षेत्रों में से एक है। कोयला/लिग्नाइट पीएसयू ने पिछले 5 वर्षों (वित्त वर्ष 2019-20 से वित्त वर्ष 2023-24 (अक्तूबर, 2023 तक) के दौरान) 111 हेक्टेयर से अधिक भूमि क्षेत्र में 15 इको-पार्क/खान पर्यटन स्थलों का निर्माण किया है और स्थानीय पर्यटन सर्किट के साथ 7 पार्कों को एकीकृत किया है। आने वाले 4-5 वर्षों में, 19 नए ईको-पार्क/पर्यटन-स्थल बनाने की परिकल्पना की गई है। ईको पार्क हेतु स्थल चिह्नित कर लिए गए हैं एवं कोयला कंपनियों द्वारा पहले से ही प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है।

Modwani water
मुडवानी डैम ईको-पार्क का उद्घाटन

 

Gobardhan Eco-Park
खान-II में चिल्ड्रन पार्क
Ashok Eco-Park
झांझरा ईको-पार्क में किया गया शिलान्यास

सीएस आज़ाद ओरिऐंट ईको-पार्क में किया गया शिलान्यास
सीएस आज़ाद ओरिऐंट ईको-पार्क में किया गया शिलान्यास
बाल गंगाधर तिलक इको-पार्क, डब्ल्यूसीएल
बाल गंगाधर तिलक इको-पार्क, डब्ल्यूसीएल
सीसीएल के कायाकल्प वाटिका इको पार्क में नेचर ट्रेल
सीसीएल के कायाकल्प वाटिका इको पार्क में नेचर ट्रेल